गज़ल

मधुर आंखों की अदा, मीठी शरबत सी मुस्कान, झलक तुम्हारी पाने को, तुम्हें पूजू सुबह शाम। एक...

Continue reading