आम


0

ग्रीष्म ऋतु ढलते ही मीठास आम में आई है फलों के राजा आम ने खुशबू अपनी महकाइ है । जर्दा सबुजा और मालदेव ने हाजिरी हाटो में लगाई है इनकी […]

Read More

कवारनटाइन


1 comment

गर्मी गई वर्षा ऋतु आई, कोरोना का रूप विकराल हुआ, कोरोना से लड़ने में, देश हमारा बेहाल हुआ। क्वारंटाइन की नीति को, जन अभियान बनाना है, कोरोना रूपी राक्षस को, […]

Read More

इंसानियत


0

इंसानियत इंसानों पे ना जाने कितने शेर लिखे जाते हैं, इंसानों की इंसानियत हमें ना इसमें बतलाते हैं , इंसान अगर बचे हैं तो इंसानियत क्यों मर जाती है, फिर […]

Read More

पहली चाहत


0

एक लड़का एक लड़की को जानू कह बुलाता था बिना याद किए उसको खाना तक ना खाता था प्यार में डूबी लड़की भी दिल उसका बहलाती थी कोई ना कोई […]

Read More

मुस्कान


0

बुझे अरमानों की जान है मुस्कान हसीनाओं की हथियार है मुस्कान मानो ना मानो छोरी कटार है मुस्कान आशिकों को मारने का तलवार है मुस्कान हर प्यार की शुरुआत है […]

Read More

The Indian Reader 2020